Movie prime

सरसों को अब चीन का सहारा देखें आज की तेजी मंदी रिपोर्ट

 
sarso ka rate

सरसों के भाव और आज की तेजी मंदी रिपोर्ट

किसान साथियो सरसों के बाजार में भयंकर वाली स्थिरता देखने को मिल रही है। बाजार अब ऐसा हो गया है कि व्यापारी अभी जरा सा भी रिस्क नहीं लेना चाह रहे हैं। यही कारण है कि मंगलवार को विश्व बाजार में खाद्य तेलों के भाव तेज होने के बावजूद भी घरेलू बाजार में लगातार तीसरे दिन भी सरसों के दाम स्थिर बने रहे। इस रिपोर्ट में हम सरसों के बाजार भाव की तेजी मंदी की चर्चा करेंगे

WhatsApp पर भाव पाने के लिए ग्रुप join करे

मार्केट में क्या रही हलचल

मंगलवार को जयपुर में कंडीशन की सरसों के भाव 6,925 रुपये प्रति क्विंटल के पूर्व स्तर पर टिके रहे। जबकि दिल्ली में सरसों के भाव 6600 से 6650 तक रहे। भरतपुर में 30-35 रुपये प्रति क्विंटल की नरमी के बाद भाव 6472 तक बोले गए। ब्रांडेड कंपनियों की बात करें तो सरसों के भाव में स्थिरता देखने को मिली सलोनी प्लान्ट पर भाव 7325-7350 पर स्थिर रहे जबकि BP प्लान्ट और शारदा प्लान्ट पर भाव क्रमशः 7200 और 7150 तक देखने को मिले हैं। हालांकि आवक में हल्की गिरावट आयी। उत्पादक राज्यों की मंडियों में सरसों की दैनिक आवक घटकर 2 लाख बोरियों की हुई ।

व्यापारियों के अनुसार मलेशिया में पाम तेल की कीमतों में लगातार तीसरे दिन तेजी दर्ज की गई, जबकि शिकागों में सोया तेल के भाव शाम के सत्र में बढ़ गए। तेजी का मुख्य कारण चीन मे मौसम का प्रतिकूल होना माना जा सकता है क्यों कि इंडोनेशिया और मलेशिया से ऐसे कुछ संकेत नहीं है जिससे तेजी का माहौल बनता दिखे।  इंडोनेशिया में पाम तेल उत्पादों की इन्वैंट्री लगातार बढ़ रही है, जिस कारण बाजार में चिंता है।

केंद्र सरकार की सख्त नीतियों के कारण घरेलू बाजार में स्टॉकिस्ट बड़ी मात्रा में खरीद नहीं कर रहे हैं और तेल मिलें भी केवल जरुरत के हिसाब से ही सरसों की खरीद कर रही है। चालू सीजन में उत्पादन अनुमान ज्यादा होने के कारण किसानों के पास पिछले साल की तुलना में स्टॉक ज्यादा है। और वे अच्छे भाव का इंतजार कर रहे हैं।

जानकारों का मानना है कि त्योहारी सीज़न होने के कारण सरसों तेल में मांग बनी रहेगी, इसलिए सरसों की कीमतों में अभी ज्यादा मंदा आने के आसार नहीं है। हालांकि विदेशों में बने माहौल के कारण तेजी भी नहीं आ पा रही है

ये भी पढे :- मलेशिया की करेंसी गिरी, आयात हुआ सस्ता, जाने सरसों पर इसका असर

विदेशी बाजारों की अपडेट

विदेशी बाजारों की बात करें तो बर्सा मलेशिया डेरिवेटिव्स एक्सचेंज, बीएमडी में नवंबर महीने के वायदा अनुबंध में 77 रिगिंट की तेजी आकर भाव 4,237 रिगिंट प्रति टन हो गए। इस दौरान शिकागो बोर्ड
ऑफ ट्रेड (CBOT) पर सोया तेल की कीमतें भी इलेक्ट्रॉनिक व्यापार में शाम के सत्र में 0.07 प्रतिशत तेज हुई। मनी कंट्रोल की रिपोर्ट के अनुसार इंडोनेशिया के व्यापार मंत्री ने कहा है कि भारत 26 लाख टन पाम तेल उत्पादों के आयात के लिए प्रतिबद्ध है।

हाजिर मंडियों के ताजा भाव

घरेलू बाजार की बात करें तो जयपुर में सरसों तेल कच्ची घानी एवं एक्सपेलर की कीमतें मंगलवार को एक-एक तेज होकर भाव क्रमशः 1385 रुपये और 1375 रुपये प्रति 10 किलो हो गए। इस दौरान सरसों खल की कीमतें 2625 रुपये प्रति क्विंटल के पूर्व स्तर पर स्थिर बनी रही।

हाजिर मंडियों में सरसों के भाव की बात करें तो शाम तक हाजिर मंडियों में सरसों के भाव इस प्रकार से रहे राजस्थान की नोहर मंडी में सरसों का टॉप रेट ₹6370 प्रति क्विंटल, रावतसर में 41 लैब का भाव ₹6300 प्रति क्विंटल, संगरिया मंडी में सरसों के रेट ₹6326 प्रति क्विंटल, रायसिंहनगर में सरसों का भाव 6342, सूरतगढ़ मंडी में सरसों का टॉप रेट ₹6121 प्रति क्विंटल तक बोला गया है। केसरीसिंहपुर में सरसों का रेट 6100, श्रीगंगानगर मंडी में सरसों का भाव 6341, भवानी मंडी में सरसों का भाव 5900 जबकि अलवर मंडी में कंडीशन सरसों की रेट ₹6500 प्रति क्विंटल तक देखने को मिले।

हरियाणा की मंडियों की बात करें तो ऐलनाबाद मंडी में सरसों का भाव 6426 सिरसा मंडी में सरसों का रेट 6200 सिवानी मंडी में 42 लैब सरसों का भाव ₹6700, भुना मंडी में सरसों का भाव 6057 और आदमपुर मंडी में सरसों का रेट ₹6299 प्रति क्विंटल तक बोला गया।
यह भी पढ़ें :- अन्य मंडियों के ताजा भाव

खाद्य तेल की अपडेट

विदेशी बाजारों की तेजी को देखते हुए आयातित तेल सोया को हल्की मजबूती का समर्थन मिला, लेकिन पाम तेल में गिरावट का दौर जारी है। मूंगफली और सरसों तेल में हल्की तेजी का माहौल है, लेकिन सूरजमुखी तेल में कल से गिरावट और बढ़ी है। विशेषज्ञों का कहना है कि मलेशिया पाम तेल के वायदा में उठापटक जारी है। केएलसी द्वारा बढ़त बनाए जाने के दौरान भी घरेलु बाजार में पाम तेल में गिरावट बढ़ी है। जबकि सोया तेल में कल से सुधार हो रहा है।

हालांकि सोयाबीन प्लांटों द्वारा खरीद के भाव में कोई बड़ा उत्साह नहीं दिखाया जा रहा है, इसके बावजूद सोया रिफाइन के भाव में 5 से 20 रुपए प्रति दस किलो का सुधार देखने को मिला है। मध्य प्रदेश के प्रकाश प्लांट का भाव 15 रुपए प्रति दस किलो सुधकर 1240 रुपए के स्तर पर आ गया, जबकि शिव कोटा राजस्थान में 20 रुपए प्रति दस किलो सुधार दिखा।

ये भी पढे :- गेहूँ में कितनी और तेजी, चावल का कितना मिल रहा सपोर्ट - गेहूं और चावल की तेजी मंदी रिपोर्ट

आगे क्या रह सकता है माहौल

साथियो ओवर ऑल माहौल को देखा जाए तो यह कहा जा सकता है कि सरसों में सितंबर महीने तक हल्का उतार-चढ़ाव बना रह सकता है सितंबर तक बड़ी तेजी की उम्मीद कम है। साथियों विदेशों में किसी भी समय माहौल बदल सकता है और जैसे ही यह माहौल बदलेगा मंडी भाव टुडे का यह मानना है कि सरसों में अच्छी खासी तेजी देखने को मिल सकती है। हालांकि अभी जिस प्रकार से बाजार चल रहा है वैसा भी बना रहता है तब भी नवंबर महीने तक सरसों में ₹400-500 तक की तेजी आराम से आ सकती है। बाकी व्यापार अपने विवेक से करें