Movie prime

देखे चने में आई तेजी कितनी टिकाऊ है | जाने पूरी जानकारी इस रिपोर्ट में

देखे चने में आई तेजी कितनी टिकाऊ है | जाने पूरी जानकारी इस रिपोर्ट में

किसान साथियो काबुली चने में वर्तमान में आई तेजी असामयिक है, क्योंकि पिछले वर्ष की रिकॉर्ड तेजी को देखकर उत्पादक मंडियों के व्यापारी एवं किसान माल रोक लिए हैं तथा वहीं पर कच्ची मंडियों में भी स्टॉक होने लगा है, इसे देखकर दिल्ली सहित बड़ी वितरक मंडियों में भी माल की शॉर्टेज में भाव बढ़ गए हैं। अतः सीजन की तेजी देखकर, व्यापार संभाल कर करना लाभदायक रहेगा। काबुली चने का उत्पादन 30 लाख मीट्रिक टन के करीब हुआ है, जो बीते वर्ष 17-18 लाख मीट्रिक टन हुआ था। गत वर्ष महाराष्ट्र के माल नीचे में 68/69 रुपए बिककर ऊपर में 128/129 रुपए प्रति किलो कच्चा माल देख आए था। इस बार नई फसल आने पर, पुराना स्टॉक गोदाम में पूरी तरह समाप्त हो गया था, लेकिन वर्तमान की फसल अधिक होने के बावजूद भी आंध्र प्रदेश, कर्नाटक एवं मध्य प्रदेश के स्टॉकिस्ट वहीं पर माल पकड़ने लगे हैं। WhatsApp पर भाव देखने के लिए हमारा ग्रुप जॉइन करें

इस बार स्टॉक दो स्टेप पर ज्यादा हो रहा है, पहला यह कि किसान ही ऊंचे भाव देखकर के माल को रोकने लगे हैं। दूसरा उत्पादक मंडियों के कारोबारी स्टॉक करने लगे हैं, जिससे दिल्ली सहित उत्तर भारत की मंडियों में माल कम आ रहा है। इस समय काबुली चने की महाराष्ट्र की थैलियां 85/88 रुपए बोल रहे हैं। इधर इंडियन मेक्सिको माल के भाव 104/105 रुपए तक बोल रहे हैं। वास्तविकता यह है कि बाजारों में रुपए की तंगी है, लेकिन कारोबारी चौतरफा तेजी में आ गए हैं, जिससे माल पकडने लगे हैं। अतः अभी कुछ दिन करेक्शन आने के बाद 4/5 रुपए प्रति किलो बढ़ा जरूर देंगे, लेकिन इन बढ़े भाव में माल बेचते रहना चाहिए। 2690 में गेहू बेचना है तो एक क्लिक में कंपनी को सीधा बेचे

हम मानते हैं की फरवरी माह में फसल आने पर पुराना माल गोदाम में समाप्त हो गया था, इसके बावजूद भी काबुली चने की बिजाई अधिक होने के साथ-साथ मौसम अनुकूल होने से उत्पादन 28/30 लाख मीट्रिक टन हुआ है, जो गत वर्ष की अपेक्षा लगभग 50 प्रतिशत अधिक है, केवल मंडियों में वर्तमान की आवक को देखकर उत्पादन व उत्पादकता का आकलन लगाना ठीक नहीं रहेगा। कारोबारी देसी चने के साथ-साथ इसके उत्पादन में भी कमी बताने लगे हैं, जो कि पूरी तरह निराधार है। आगे शादियां समाप्त होने जा रही हैं। अतः ऊंचे भाव के माल गले में अटक सकते हैं। मटर भी प्रचुर मात्रा में आ रहा है, अब तक 13 लाख मीट्रिक टन का आयात हो चुका है तथा और भी सौदे हो रहे हैं। अतः काबली चने पर भी इसका प्रभाव पड़ेगा। बाकी व्यापार अपने विवेक से करे

👉 यहाँ देखें फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट

👉 यहाँ देखें आज के ताजा मंडी भाव

👉 बासमती के बाजार में क्या है हलचल यहाँ देखें

About the Author
मैं लवकेश कौशिक, भारतीय नौसेना से रिटायर्ड एक नौसैनिक, Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मैं मूल रूप से हरियाणा के झज्जर जिले का निवासी हूँ। मंडी मार्केट( Mandibhavtoday.net) को मूल रूप से पाठकों  को ज्वलंत मुद्दों को ठीक से समझाने और मार्केट और इसके ट्रेंड की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।