Movie prime

चने को किसानो से एमएसपी से 400 रुपए अधिक में खरीदेगी सरकार | अपने चने को बेचने के लिए तैयार रहें चना के किसान

चने को किसानो से एमएसपी से 400 रुपए अधिक में खरीदेगी सरकार | अपने चने को बेचने के लिए तैयार रहें चना के किसान

किसान साथियो केंद्र सरकार किसानों से सीधे चना खरीदने की तैयारी कर रही है. तय सीमा से नीचे गिरे स्टॉक को बढ़ाने के लिए सरकार मूल्य स्थिरीकरण निधि के तहत किसानों से सीधे बाजार मूल्य पर चना खरीदेगी। ऐसे में किसानों को एमएसपी से करीब 400 रुपये प्रति क्विंटल ज्यादा मिलने की उम्मीद है. केंद्र को भारत ब्रांड चना दाल की आपूर्ति के लिए चने की जरूरत है। WhatsApp पर भाव देखने के लिए हमारा ग्रुप जॉइन करें

मंडी में चने की कीमत एमएसपी रेट से अधिक है
किसान साथियो देश के कुल दाल उत्पादन में चने की दाल की हिस्सेदारी लगभग 50% है। रिपोर्ट के मुताबिक बाजार में मौजूदा चना की कीमतें एमएसपी से करीब 400 रुपये प्रति क्विंटल ज्यादा हैं. फाइनेंशियल एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, उत्पादन में गिरावट की आशंका के कारण बाजार में चने की मौजूदा कीमतें 5,900 रुपये से 6,000 रुपये प्रति क्विंटल के बीच चल रही हैं. जबकि 2024-25 सीजन के लिए चने का न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी रेट 5,440 रुपये प्रति क्विंटल है. 5425 में सरसों बेचनी है तो एक क्लिक में कंपनी को सीधा बेचें

नेफेड खरीद टारगेट से बहुत पीछे रह चुकी है
साथियो अधिकारियों के हवाले से बताया गया कि सरकार बाजार मूल्य पर किसानों से सीधे खरीद कर बफर स्टॉक बढ़ाने की तैयारी कर रही है. वर्तमान में चने की ऊंची कीमतों के कारण सहकारी संस्था नाफेड और राज्य स्तरीय एजेंसियां ​​मूल्य समर्थन योजना (पीएसएस) के तहत एमएसपी पर खरीद नहीं कर पा रही हैं। अप्रैल-जून के कारोबारी सीजन में NAFED अब तक 10 लाख टन के लक्ष्य के मुकाबले केवल 13,000 टन चना ही खरीद पाया है। NAFED ने 2023-24 सीज़न में PSS के तहत 2.3 टन चना और 2022-23 सीज़न में 2.6 टन चना खरीदा था, जिससे स्टॉक बफर को बढ़ावा मिला था |

भारत ब्रांड दाल के लिए चना खरीद की सरकार कर रही है तैयारी
अधिकारियों ने कहा कि पिछले दो विपणन सत्रों में बड़े पैमाने पर खरीद से पिछले साल आरक्षित स्टॉक बढ़कर 3 टन हो गया। इससे सरकार खुले बाजार में चना दाल बेचने के साथ-साथ भारत ब्रांड चना दाल 60 रुपये प्रति किलोग्राम पर बेचने में सक्षम हो गयी. सूत्रों ने कहा कि चने का बफर स्टॉक वर्तमान में एक टन के मानक के मुकाबले घटकर लगभग 0.7 टन रह गया है। अब सरकार को भारत ब्रांड चना दाल के लिए भी चने की जरूरत है. ऐसे में सरकार बफर स्टॉक बढ़ाने के लिए मूल्य स्थिरीकरण निधि के तहत किसानों से बाजार मूल्य पर चना खरीदने की तैयारी कर रही है.

👉 यहाँ देखें फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट

👉 यहाँ देखें आज के ताजा मंडी भाव

👉 बासमती के बाजार में क्या है हलचल यहाँ देखें

About the Author
मैं लवकेश कौशिक, भारतीय नौसेना से रिटायर्ड एक नौसैनिक, Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मैं मूल रूप से हरियाणा के झज्जर जिले का निवासी हूँ। मंडी मार्केट( Mandibhavtoday.net) को मूल रूप से पाठकों  को ज्वलंत मुद्दों को ठीक से समझाने और मार्केट और इसके ट्रेंड की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।