Movie prime

गेहूं खरीद शुरू होने के बाद भी हरियाणा की करनाल मंडी में छाया सन्नाटा | कटाई में होगी अभी 10 दिन और लग सकते है

गेहूं खरीद शुरू होने के बाद भी हरियाणा की करनाल मंडी में छाया सन्नाटा | कटाई में होगी अभी 10 दिन और लग सकते है

किसान साथियो गेहूं की खरीद 1 अप्रैल से हरियाणा में शुरू हो चुकी है। लेकिन करनाल जिले के किसी भी क्रय केंद्र में कोई गेहूं लेकर नहीं पहुंचा है। कल की तरह आज भी पूरे जिले में गेहूं की सरकारी खरीद नहीं हो पाई है. दरअसल, करनाल जिले में कुछ जगहों को छोड़कर अभी तक गेहूं की कटाई शुरू नहीं हुई है, क्योंकि फिलहाल गेहूं की फसल को पकने में 10 से 15 दिन का समय और लग सकता है. किसानों के मुताबिक इस बार ठंड ज्यादा दिनों तक पड़ी है।  रात और सुबह के समय अभी भी नमी बनी हुई है। WhatsApp पर भाव देखने के लिए हमारा ग्रुप जॉइन करें

साथियो किसानों ने बताया कि इस बार जिस तरह का मौसम है, उससे गेहूं का उत्पादन अधिक होने की उम्मीद है. हरियाणा में गेहूं की खरीदारी 1 अप्रैल से शुरू हो चुकी है। लेकिन कोई भी किसान अपनी गेहूं की फसल को मंडियों में नहीं लाया है। अभी तक किसान एक भी गाड़ी या गेहूं का एक भी दाना लेकर मंडी में नहीं पहुंचे हैं। मार्केट कमेटी के अधिकारियों ने बताया कि मंडियों में गेहूं खरीद की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। मार्ग को अवरुद्ध करने के लिए बाजार के प्रवेश द्वार पर कर्मचारियों को तैनात किया गया था। हर किसान अपनी फसल ला सकता है। उन्होंने कहा कि गेहूं की फसल आने में लगभग एक सप्ताह का समय और लग सकता है।

हरियाणा में कब से शुरू होगी फसल की कटाई
कलसौरा गांव के किसान राहुल ने कहा कि गेहूं की फसल को पकने में 10 दिन लग सकते हैं क्योंकि इस बार मौसम ठंडा है, जो फसल के लिए काफी अच्छा है। हालांकि, तापमान बढ़ रहा है. धीरे-धीरे फसल पक जाएगी। उन्होंने कहा कि इस बार तापमान को देखते हुए अधिक पैदावार की उम्मीद है. वहीं, इसी गांव के किसान अरुण कुमार ने बताया कि अभी पूरे इलाके में गेहूं की कटाई शुरू नहीं हुई है. फसल तैयार होने में कम से कम 20-25 दिन लगेंगे. इसका मतलब है कि 25 दिन बाद गेहूं की कटाई शुरू हो जाएगी. गेहूँ को टॉप रेट में बेचना है तो यहां क्लिक करें

किसानो को कितना मिलेगा गेहूं का एमएसपी
वहीं, मार्केट कमेटी के अधिकारियों का कहना है कि हमने मंडी के हर गेट पर कर्मचारी नियुक्त किए हैं. कोई भी अपनी फसल ला सकता है, जिस किसान का नाम मेरी फसल मेरे ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकृत है वह किसी भी समय आ सकता है। इस बार किसानों को 2275 रुपये प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य मिलेगा. अधिकारी ने यह भी कहा कि किसानों को कोई परेशानी नहीं होने दी जाएगी और किसी भी तरह का कोई फर्जी प्रवेश दस्तावेज जारी नहीं किया जाएगा.

👉 यहाँ देखें फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट

👉 यहाँ देखें आज के ताजा मंडी भाव

👉 बासमती के बाजार में क्या है हलचल यहाँ देखें

About the Author
मैं लवकेश कौशिक, भारतीय नौसेना से रिटायर्ड एक नौसैनिक, Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मैं मूल रूप से हरियाणा के झज्जर जिले का निवासी हूँ। मंडी मार्केट( Mandibhavtoday.net) को मूल रूप से पाठकों  को ज्वलंत मुद्दों को ठीक से समझाने और मार्केट और इसके ट्रेंड की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।