Movie prime

आखिर बासमती चावल क्यों होता है इतना महंगा? क्या है इसमें खास

आखिर बासमती चावल क्यों होता है इतना महंगा? क्या है इसमें खास

बासमती चावल अन्य सामान्य चावलों की तुलना में काफी महंगा होता है। क्या आपने कभी सोचा है कि इस चावल में ऐसा क्या खास है कि लोग एक किलो चावल के लिए इतने पैसे चुकाते हैं? जब भी आप बाजार में चावल खरीदने जाते हैं तो आपको दुकान में कई तरह के चावल देखने को मिलेंगे। चावल की कई किस्मों में से बासमती चावल की मांग लोगों द्वारा सबसे ज्यादा की जाती है और खासियत यह है कि यह बासमती चावल अन्य चावलों की तुलना में अधिक महंगा भी है। इसके बाद भी लोग बासमती चावल खरीदना पसंद करते हैं. WhatsApp पर भाव देखने के लिए हमारा ग्रुप जॉइन करें

ऐसे में सवाल ये है कि बासमती चावल में ऐसा क्या होगा, जो काफी महंगा है. सच तो यह है कि यह चावल न सिर्फ स्वादिष्ट होता है बल्कि इसमें कई खास चीजें भी होती हैं जो इसे खास बनाती हैं. ऐसे में आज हम आपको बताएँगे कि बासमती चावल में ऐसा क्या है इससे क्या खास बनाता है और बाजार में इसकी कीमतें इतनी ज्यादा क्यों होती हैं। साथ ही में हम आपको ये भी बताएँगे कि इसकी खेती सामान्य चावल की खेती से कैसे अलग है.

आकार में अंतर?
जब भी हम अच्छे और ख़राब चावल के बारे में बात करते हैं तो सबसे पहले जो चीज़ हम देखते हैं वह है चावल का आकार। लंबे चावल की कीमत अधिक होती है और इसे बेहतर माना जाता है। वहीं, बासमती चावल की खासियत यह है कि इसके दाने काफी बड़े होते हैं, इसलिए इसकी कीमत ज्यादा होती है. इसके दाने इतने बड़े हैं कि कुछ किस्मों के दाने 8 MM से भी अधिक होते हैं। इसलिए ये चावल काफी महंगा है.

बासमती चावल की होती है लम्बे समय तक की उम्र
बासमती चावल की एक और खासियत यह है कि यह लंबे समय तक खरब नहीं होता है, इसलिए इसकी बनावट एकदम सही रहती है। चावल देखने में जो ज्यादा अच्छा लगता है, वो चावल की एजिंग की वजह से होती है, इस के कई किस्मो को 18 से 24 महीने तक पकने में समय लग जाता है। इस प्रक्रिया से चावल की लागत भी बढ़ जाती है और ऊंचे दाम पर भी बिकता है.

इसके कई वैज्ञानिक कारण भी हैं.
इसके अलावा बासमती चावल में कुछ ऐसे तत्व भी होते हैं जो इसे खास बनाते हैं। दरअसल, बासमती चावल में एक्टाइल ई प्योरोलाइन नामक कंपाउंड होता है, जो इसे शरीर के लिए बेहतर बनाता है। इसमें मौजूद ग्लाइसेमिक लेवल बहुत कम होता है और यह चावल उन लोगों के लिए भी उपयुक्त है जो अपनी कैलोरी का सम्मान करते हुए खाना पसंद करते हैं, क्योंकि इसमें कम कैलोरी होती है।

खेती की प्रक्रिया अलग है.
जब भी बासमती चावल उगाया जाता है, तो यह रोपण के लगभग 140 दिन बाद पकता है। इसकी औसत उपज 12.6 क्विंटल चावल प्रति हेक्टेयर है। इसके साथ ही इसके पौधे को तैयार करने और फसल तैयार करने में भी काफी दिक्कतें आती हैं. इस कठिन प्रक्रिया के कारण इसकी लागत अधिक है।

👉 यहाँ देखें फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट

👉 यहाँ देखें आज के ताजा मंडी भाव

👉 बासमती के बाजार में क्या है हलचल यहाँ देखें

About the Author
मैं लवकेश कौशिक, भारतीय नौसेना से रिटायर्ड एक नौसैनिक, Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मैं मूल रूप से हरियाणा के झज्जर जिले का निवासी हूँ। मंडी मार्केट( Mandibhavtoday.net) को मूल रूप से पाठकों  को ज्वलंत मुद्दों को ठीक से समझाने और मार्केट और इसके ट्रेंड की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।