Movie prime

गेहूं की पिली पतियों से बचने का रामबाण इलाज | देखे पूरी जानकरी इस रिपोर्ट में

गेहूं की पिली पतियों से बचने का रामबाण इलाज | देखे पूरी जानकरी इस रिपोर्ट में

किसान साथियो गेहूं की फसल अब लगभग 70 से 80 दिन की हो चुकी है। बढ़ती ठंड के कारण पौधे मिट्टी से कम पोषक तत्व ले रहे है। यही कारण है कि हमें फसलों में पोषक तत्वों की कमी देखने को मिलती है। इस समय अगर आप अपनी गेहूं की फसल में पोषक तत्वों की कमी की भरपाई करना चाहते हैं। इसलिए आपको सीधे स्प्रे से ही स्प्रे करना चाहिए। क्योंकि पौधे सूर्य के प्रकाश के बिना बहुत कम मात्रा में मिट्टी से तत्वों को अवशोषित करते हैं। साथी किसान भाइयों, यदि आपने गेहूं बोते समय पोटैशियम का प्रयोग नहीं किया है और आपकी फसल में पोटैशियम की कमी है। इसलिए आप नीचे दिए गए तरीकों को अपनाकर आसानी से अपनी फसल में पोटेशियम की कमी को दूर कर सकते हैं। WhatsApp पर भाव देखने के लिए हमारा ग्रुप जॉइन करें

गेहूं की फसल में पोटाश का क्या महत्व है
साथियो पोटेशियम पौधों के लिए एक महत्वपूर्ण पोषक तत्व है। जिसकी जरूरत बढ़ती जा रही है. क्योंकि भूमि आरक्षित ख़त्म हो रही है. पोटेशियम की कमी से पौधों द्वारा पानी और अन्य पोषक तत्वों का उपयोग कम हो जाता है। इसलिए, फसलें बड़ी मात्रा में सूखे, जलभराव, पाले और पत्ती रोगों से पीड़ित होती हैं।

गेहूं की फसल में पोटाश की कमी के क्या है लक्षण
साथियो गेहूं की ऊपरी पत्तियों में पोटैशियम की कमी देखी जाती है। गेहूं के ऊपरी हिस्से की नोक पीली पड़ जाती है और ऐसा प्रतीत होता है मानो पत्ती जल गई हो। पत्तियों के किनारों पर जलन. इसकी कमी से पत्तियों का आकार छोटा हो जाता है और उनकी वृद्धि रुक ​​जाती है। यदि आपको अपनी फसल में उपरोक्त लक्षण दिखाई देते हैं। तो ये है पोटैशियम की कमी, इसलिए हमें पोटाश का इस्तेमाल करना होगा.

गेहूं की फसल में कौन से पोटाश का करें इस्तेमाल
साथियो गेहूं में पोटैशियम की कमी को दूर करने के लिए आपको इस समय पोटैशियम स्प्रे करना चाहिए। ताकि पौधे में पोटैशियम की कमी की भरपाई जल्द से जल्द की जा सके. अगर आप इस समय मिट्टी से पोटाश निकालेंगे तो इसे पौधे तक पहुंचने में काफी समय लगेगा. पोटेशियम की कमी को दूर करने के लिए आप नीचे दिए गए किसी भी उत्पाद का उपयोग कर सकते हैं।

1. एमओपी जो अपना 50 किलो का बैग में आता है आप इसका छिड़काव 1-2 किलोग्राम प्रति एकड़ की दर से कर सकते हैं.
2. NPK 00-00-50 को 1 ग्राम प्रति लीटर की दर से घोलकर फसल पर छिड़काव करें।
3.आप 20% कार्बनिक पोटेशियम और 1.5% सल्फर के साथ एफएमसी (लीजेंड) का भी उपयोग कर सकते हैं। इसमें आपको थोड़ा खर्चा आएगा लेकिन परिणाम बहुत अच्छे देखने को मिलते हैं। इसको 48g मात्रा प्रति एकड़ प्रयोग करें।

आप उपरोक्त किसी भी पोटाशिक्स का छिड़काव कर सकते हैं जो आपकी फसल में आसानी से उपलब्ध है। इस तरह आपकी फसल में पोटेशियम की कमी आसानी से पूरी हो जाएगी और आपकी फसल हरी-भरी हो जाएगी।

नोटः दी गई जानकारी किसानों के निजी अनुभव और इन्टरनेट पर उपलब्ध विश्वसनीय स्त्रोतों से प्राप्त की गई है। किसी भी जानकारी को अम्ल में लाने से पहले कृषि विशेषज्ञ की सलाह जरूर ले लें।

👉 यहाँ देखें फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट

👉 यहाँ देखें आज के ताजा मंडी भाव

👉 बासमती के बाजार में क्या है हलचल यहाँ देखें

About the Author
मैं लवकेश कौशिक, भारतीय नौसेना से रिटायर्ड एक नौसैनिक, Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मैं मूल रूप से हरियाणा के झज्जर जिले का निवासी हूँ। मंडी मार्केट( Mandibhavtoday.net) को मूल रूप से पाठकों  को ज्वलंत मुद्दों को ठीक से समझाने और मार्केट और इसके ट्रेंड की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।