Movie prime

चावल को लेकर सरकार का बड़ा फैसला | 31 मार्च के बाद भी जारी रहेगी 20% एक्सपोर्ट ड्यूटी

चावल को लेकर सरकार का बड़ा फैसला | 31 मार्च के बाद भी जारी रहेगी 20% एक्सपोर्ट ड्यूटी

किसान साथियो केंद्र सरकार ने आज आम जनता को प्रभावित करने वाले कुछ अहम फैसलों का ऐलान किया. इन फैसलों में गन्ने की खरीद मूल्य 25 रुपये बढ़ाने और चावल निर्यात पर 31 मार्च 2024 के बाद भी 20% निर्यात शुल्क बरकरार रखने की घोषणा की गई. यह घोषणा की गई कि मोटे या उबले चावल पर निर्यात शुल्क बरकरार रखा जाएगा। केंद्र सरकार ने बुधवार को कहा कि मोटे चावल के निर्यात पर 20% निर्यात कर 31 मार्च के बाद भी जारी रहेगा। WhatsApp पर भाव देखने के लिए हमारा ग्रुप जॉइन करें

चावल पर एक्सपोर्ट ड्यूटी किस दिन लगाई गई थी
साथियो देश में घरेलू कीमतों को नियंत्रित करने के लिए 25 अगस्त 2023 से 16 अक्टूबर 2023 तक उसना चावल पर 20% निर्यात शुल्क लगाया गया था, जिसे बाद में 31 मार्च 2024 तक बढ़ा दिया गया था। आज इस निर्यात नियम की अवधि बढ़ा दी गई है लेकिन यह नियम कितने समय तक चलेगा, इसकी कोई तारीख नहीं दी गई है, यानी यह फिलहाल अनिश्चित काल तक जारी रहेगा।

वित्त मंत्रालय ने किया नोटिफिकेशन जारी
साथियो आप की जानकारी के लिए बता दे की आज वित्त मंत्रालय ने एक नोटिफिकेशन भी जारी किया है जिसमे कहा गया है की 20% निर्यात शुल्क 31 मार्च के बाद भी जारी रहेगा। यह सुनिश्चित करने के लिए कि देश की घरेलू कीमतें न बढ़ें या सीमा से अधिक न हों, साथ ही चावल का पर्याप्त भंडारण हो, सरकार ने उबले चावल के निर्यात पर 20% का अतिरिक्त शुल्क लगाया है।

कैसा होता है उसना चावल ?
धान से चावल निकालने की प्रक्रिया में पहले धान को छिलके सहित उबाला जाता है और फिर सूखने के बाद चावल को अलग कर लिया जाता है। इस चावल को उसना चावल कहा जाता है. इस चावल में भूरे चावल में पाए जाने वाले लगभग सभी लाभकारी तत्व मौजूद होते हैं। यह चावल पारदर्शी होता है, पकाने में कम समय लगता है और पाचक भी होता है। उसना चावल या उबले हुए चावल, जिसे पश्चिम बंगाल में उसना चावल और भारत के दक्षिणी राज्यों में पोन्नी चावल के रूप में भी जाना जाता है, आंशिक रूप से उबला हुआ चावल है।

👉 यहाँ देखें फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट

👉 यहाँ देखें आज के ताजा मंडी भाव

👉 बासमती के बाजार में क्या है हलचल यहाँ देखें

About the Author
मैं लवकेश कौशिक, भारतीय नौसेना से रिटायर्ड एक नौसैनिक, Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मैं मूल रूप से हरियाणा के झज्जर जिले का निवासी हूँ। मंडी मार्केट( Mandibhavtoday.net) को मूल रूप से पाठकों  को ज्वलंत मुद्दों को ठीक से समझाने और मार्केट और इसके ट्रेंड की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।