Movie prime

देखे जीरे की कीमतों में कब बन सकती है तेजी | देखे पूरी जानकारी इस रिपोर्ट में

देखे जीरे की कीमतों में कब बन सकती है तेजी | देखे पूरी जानकारी इस रिपोर्ट में

किसान साथियो गुजरात की मंड़ियों में अब नए जीरे की आवक बढ़नी शुरू हो गई है। राज्य की गोंडल मंड़ी के बाद अब ऊंझा में भी नए जीरे की आवक बढ़ने लगी है। हालांकि सौराष्ट्र में जीरे की फसल को नुकसान होने की भी चर्चाएं चल रही हैं। हाल ही में आई मंदी के बाद आगामी दिनों में जीरे में अस्थाई मजबूती की स्थिति बन सकती है।आप सुधि पाठकों को समय-समय पर जीरे की तेजी-मंदी के सम्बन्ध में नवीनतम जानकारियां मिलती रहती हैं और उन्हें इससे लाभ भी होता है। गुजरात और राजस्थान देश में जीरे के सबसे बड़े उत्पादक राज्य हैं। गुजरात की मंड़ियों में नई फसल के जीरे की आवक बढ़ने लगी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य की गोंडल मंड़ी में नए जीरे की आवक बढ़ती हुई फिलहाल 300-400 बोरियों की होने लगी है। WhatsApp पर भाव देखने के लिए हमारा ग्रुप जॉइन करें

साथियो ऊंझा मंड़ी में भी इसकी आवक बढ़कर करीब 100 बोरियों की होने की जानकारी मिली। इससे पूर्व, गुजरात में तो जीरे की बुआई ने इस बार पिछले सारे रिकॉर्ड को तोड़ दिया है। इस प्रमुख किराना जिंस की नवीनतम बिजाई ने एक नया रिकॉर्ड कायम कर दिया है। राज्य कृषि विभाग के आंकड़ों पर यदि भरोसा किया जाए तो गुजरात में चालू सीजन दौरान राज्य में जीरे की बुआई बढ़ती हुई कुल 5,60,800 हेक्टेयर में बिजाई हो चुकी है। एक वर्ष पूर्व की आलोच्य अवधि में इसकी 2,75,700 हेक्टेयर में बुआई हुई थी। इससे पता चलता है कि पिछले सीजन की समीक्षागत अवधि की तुलना में इस बार अभी तक जीरे की बिजाई में 2 लाख 85 हजार 100 हेक्टेयर या करीब 103.40 प्रतिशत का उछाल आया है। इससे पूर्व इस बार जीरे की बिजाई करीब 25 प्रतिशत वृद्धि होने का अनुमान व्यक्त किया था।

साथियो हालांकि ऊंझा में पुराने जीरे की किसानी आवक नगण्य रह गई है। इसके बाद भी वहां इसकी कुल करीब 3 हजार बोरियों की ही आवक हो रही है। आवक घटने के बाद भी ऊंझा में जीरे की कीमत गिरावट आई थी। मांग बढ़ने के कारण हाल ही में यह 200-250 रुपए तेज होकर फिलहाल 6050/6150 रुपए प्रति 20 किलोग्राम पर बना हुआ है। इससे पूर्व इसमें 200-250 रुपए की मंदी आई थी। इधर, स्थानीय थोक किराना बाजार में भी बिकवाली बनी होने से जीरा सामान्य हाल ही में 500-1000 रुपए और मंदा होकर फिलहाल 28,500/29,500 रुपए प्रति क्विंटल पर बना हुआ है। इससे पूर्व इसमें 1000-1500 रुपए की गिरावट आई थी। इसके अलावा आयातक देशों की ऊंझा मंड़ी में जीरे में सक्रियता का अभाव बना हुआ था।

साथियो यद्यपि पूर्व बंगलादेश द्वारा पिछले दिनों थोड़ी खरीद किए जाने की रिपोर्ट मिली थी। भारत के अलावा विश्व में तुर्की और सीरिया को जीरे के अन्य उत्पादक देशों के रूप में जाना जाता है लेकिन अब अफगानिस्तान तथा ईरान भी चुनौती पेश करने लगे हैं। आमतौर पर तुर्की एवं सीरिया में संयुक्त रूप से करीब 35 हजार टन जीरे का उत्पादन होता है और इनकी क्वालिटी भारतीय जीरे की तुलना में हल्की होती है। चालू वित्त वर्ष 2023-24 के आरंभिक सात महीनों यानी अप्रैल-अक्तूबर, 2023 में जीरे का कुल 84,475.41 टन का हुआ। इससे 3080.45 करोड़ रुपए की आय हुई। एक वर्ष पूर्व की आलोच्य अवधि में देश से 2599.84 करोड़ रुपए मूल्य के 1,22,056.64 टन जीरे का निर्यात हुआ था। आगामी दिनों में जीरे में अस्थाई मजबूती की स्थिति बन सकती है। बाकि व्यापार अपने विवेक से करे

👉 यहाँ देखें फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट

👉 यहाँ देखें आज के ताजा मंडी भाव

👉 बासमती के बाजार में क्या है हलचल यहाँ देखें

About the Author
मैं लवकेश कौशिक, भारतीय नौसेना से रिटायर्ड एक नौसैनिक, Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मैं मूल रूप से हरियाणा के झज्जर जिले का निवासी हूँ। मंडी मार्केट( Mandibhavtoday.net) को मूल रूप से पाठकों  को ज्वलंत मुद्दों को ठीक से समझाने और मार्केट और इसके ट्रेंड की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।