Movie prime

50% की सब्सिडी लेनी है तो अभी करें आवेदन | जाने पूरी प्रकिया

50% की सब्सिडी लेनी है तो अभी करें आवेदन | जाने पूरी प्रकिया

ई-कृषि यंत्र अनुदान योजना और कृषि यंत्रीकरण योजना

कृषि यंत्र अनुदान योजना एक सरकारी योजना है जो किसानों को ऑनलाइन सब्सिडी प्रदान करने का उद्देश्य रखती है। इसके अंतर्गत, किसानों को कृषि यंत्रों की खरीद पर आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। यह योजना विभिन्न राज्यों में अलग-अलग नामों से जानी जाती है, जैसे कि ई-कृषि यंत्र अनुदान योजना मध्य प्रदेश में और कृषि यंत्रीकरण योजना बिहार में ।
कृषि यंत्र अनुदान योजना के तहत, किसान अपने कृषि उपकरणों की खरीद पर सरकार से आर्थिक सहायता प्राप्त कर सकता है। इसके लिए किसानों को ऑनलाइन पोर्टल पर आवेदन करना होता है और उनकी योजना के तहत उपयुक्तता की जाँच की जाती है। यदि आवेदन स्वीकृत होता है, तो सरकार उन्हें सब्सिडी या अन्य आर्थिक लाभ प्रदान करती है।
यह योजना किसानों को नवीन और उन्नत कृषि यंत्रों का उपयोग करने के लिए प्रेरित करने का एक प्रयास है ताकि उन्हें अधिक उत्पादकता और आर्थिक सुरक्षा हो सके।  
 पंजाब सरकार द्वारा शुरू की गई सब-मिशन ऑन एग्रीकल्चर मैकेनाइजेशन (एसएमएएम) योजना के अंतर्गत, राज्य के किसानों को कृषि यंत्र और मशीनों पर सब्सिडी प्रदान की जा रही है। इस योजना के तहत, किसान ऑनलाइन ड्रा व्यवस्था के माध्यम से सब्सिडी प्राप्त कर सकते हैं, जिससे उन्हें बैंकों या विभागों के साथ लेन-देन की जरूरत नहीं होती है। एवं किसानों को यह लाभ होगा कि उन्हें अपनी कृषि यंत्रों की खरीद के लिए सब्सिडी के लिए चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। वे घर बैठे ही आवेदन करके सब्सिडी प्राप्त कर सकते हैं। इसके परिणामस्वरूप, किसान और सरकार दोनों का समय बचेगा और किसानों को समय पर सब्सिडी प्राप्त होगी, जिससे कृषि यंत्र उपलब्ध कराया जा सकेगा। सब्सिडी का राशि किसानों के बैंक खाते में ऑनलाइन ट्रांसफर की जाएगी।        

जाने किन किन कृषि यंत्रों पर प्राप्त होगी सब्सिडी
 
सब-मिशन ऑन एग्रीकल्चर मैकेनाइजेशन (एसएमएएम) योजना के अंतर्गत, राज्य के किसानों को निम्नलिखित कृषि यंत्रों पर सब्सिडी प्रदान की जाएगी:
1.  वायवीय प्लांटर मशीन (Pneumatic Planter Machine): यह मशीन बीजों को वायवीय तरीके से बोने करने में मदद करती है, जिससे बीजों को एक स्थिति में और बराबर दूरी पर बोना जा सकता है।
2.डीएसआर मशीन (DSR Machine): यह मशीन डायरेक्ट सीडिंग राइस (DSR) पैडी के लिए उपयुक्त है, जिससे बिना पहले बुआई किए हुए बिना रोटोटिलर की सहायता से धान की बुआई की जा सकती है।
3. आलू प्लांटर मशीन (Potato Planter Machine): यह मशीन आलू की बुआई के लिए उपयुक्त है और इससे बुआई को आसानी से किया जा सकता है।
4.अर्ध-स्वचालित आलू प्लांटर मशीन (Semi-Automatic Potato Planter Machine): यह मशीन आलू की बुआई को अर्ध-स्वचालित तरीके से करने में मदद करती है।
5.स्वचालित आलू प्लांटर मशीन (Automatic Potato Planter Machine): इस मशीन के द्वारा आलू की बुआई को स्वचालित रूप से करने में सुविधा होती है।
6.लेजर लैंड लेबल मशीन (Laser Land Label Machine): यह मशीन भूमि को लेजर से नापकरने में मदद करती है, जिससे कृषि क्षेत्र के स्तर को सुनिश्चित करने में मदद मिलती है।

ये मशीनें किसानों को अधिक उत्पादकता और कृषि कार्यों को सुरक्षित और आसान बनाने में मदद करती हैं, और इसके तहत सब्सिडी का लाभ किसानों को पहुंचाया जा रहा है।  

krishi yantra
                                                                   
कृषि यंत्रों पर सब्सिडी की राशि कितनी प्राप्त होगी

राज्य सरकार की ओर से किसानों को कृषि यंत्रों/मशीनों पर नियमानुसार सब्सिडी का लाभ प्रदान किया जाता है। राज्य सरकार द्वारा सब-मिशन ऑन एग्रीकल्चर मैकेनाइजेशन (एसएमएएम) योजना के तहत किसानों को कृषि यंत्रों/मशीनों पर 40 से 50 प्रतिशत तक सब्सिडी (subsidy) दी जाएगी। किसानों को यह सब्सिडी कृषि यंत्र/मशीन की लागत पर दी जाती है।सब-मिशन ऑन एग्रीकल्चर मैकेनाइजेशन (एसएमएएम) योजना के तहत, राज्य सरकार द्वारा किसानों को कृषि यंत्रों और मशीनों पर सब्सिडी प्रदान की जाएगी। यह सब्सिडी आमतौर पर कृषि यंत्रों की कीमत का एक पूर्दृष्टांत (percentage) होती है और यह 40 से 50 प्रतिशत तक हो सकती है।
उदाहरण के लिए, यदि एक किसान एक 50,000 रुपये की कीमत वाला कृषि उपकरण खरीदता है, तो उसे 40 प्रतिशत सब्सिडी के रूप में 20,000 रुपये मिलेंगे। इस प्रकार, उसे कृषि उपकरण के लिए केवल 30,000 रुपये ही खर्च करने होंगे।
इससे किसानों को यंत्रों और मशीनों की खरीद पर एक बड़ा आर्थिक सहारा मिलता है, क्योंकि सरकार उनको इसके लिए एक हिस्सा का वित्त प्रदान करती है। इस सब्सिडी की राशि आमतौर पर यंत्र की कीमत के हिसाब से तय की जाती है ताकि किसानों को उचित आर्थिक सहायता हो सके और वे नए और उन्नत कृषि तकनीक का उपयोग कर सकें।

कैसे करें आवेदन जाने

ऑनलाइन सब्सिडी की सुविधा प्राप्त करने के लिए कृपया निम्नलिखित कदमों का पालन करें। कृषि एवं किसान कल्याण विभाग पंजाब की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं:
सबसे पहले, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग पंजाब की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। आप यहां https://agrimachinerypb.com/ लिंक का उपयोग कर सकते हैं।

  • किसान पंजीकरण: वेबसाइट पर, "किसान पंजीकरण" या समर्थन पृष्ठ पर जाएं और आवश्यक विवरण भरें, जैसे कि आधार नंबर, बैंक खाता विवरण, और अन्य आवश्यक जानकारी।
  • पंजीकरण की पुष्टि: पंजीकरण के बाद, आपको एक ओटीपी (OTP) मिलेगा जिसका उपयोग पंजीकरण की पुष्टि के लिए किया जाएगा।
  • आवेदन करें: पंजीकरण की पुष्टि के बाद, आप वेबसाइट पर "योजनाएं" या "सब्सिडी योजना" विभाग में जाएं और आवश्यक योजना का चयन करें। यहां आपको आवश्यक दस्तावेजों की सूची और ऑनलाइन आवेदन करने के लिए निर्देश मिलेगा।
  • आवेदन की पुष्टि: सब्सिडी के लिए आवेदन करने के बाद, आपको अपने आवेदन की पुष्टि के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया करनी होगी। इसमें आपको आवश्यक दस्तावेजों को अपलोड करना और आवेदन को सबमिट करना शामिल हो सकता है।
  • सब्सिडी की प्राप्ति: आपका आवेदन स्वीकृत होने पर, सब्सिडी की राशि आपके बैंक खाते में ऑनलाइन ट्रांसफर की जाएगी।

कृपया ध्यान दें कि यह विशिष्ट तरीका पंजाब सरकार की योजना के लिए है, हालांकि, कुछ राज्यों में सब्सिडी की राशि अलग-अलग हो सकती है। इसलिए अन्य राज्यों में इस प्रकार की प्रक्रिया अलग हो सकती है। इसलिए, आपको योजना की आधिकारिक वेबसाइट या स्थानीय कृषि विभाग से संपर्क करके सटीक जानकारी प्राप्त करनी चाहिए।

इस सुविधा के तहत ऑनलाइन ड्रा के माध्यम से कृषि मशीनों की खरीद करने पर किसानों को लाखों रुपए की सब्सिडी प्रदान की जा रही है, जो उन्हें नौ वायवीय प्लांटर, दो डीएसआर मशीन, सात आलू प्लांटर, दो अर्ध-स्वचालित आलू प्लांटर, और पांच लेजर लैंड लेबलर मशीनें प्राप्त करने का अवसर देती है। इन मशीनों का उपयोग करके किसान फसलों की बुआई और निराई को अधिक सुगम और एकीकृत बना सकते हैं। इससे कृषि उत्पादकता में सुधार हो सकता है और किसानों को अधिक आय का लाभ हो सकता है।
यहां कुछ प्रमुख राज्यों में कृषि यंत्रों पर सब्सिडी की राशि की सूची दी गई है:

राज्य सामान्य श्रेणी अन्य श्रेणी  कस्टम हायरिंग केंद्र
पंजाब 40% 50% 40%
उत्तर प्रदेश  40% 50% 40%
मध्य प्रदेश  40% 50% 40%
छत्तीसगढ़ 40% 50% 40%
राजस्थान  40% 50% 40%

योजना में आवेदन हेतु लिंक-  https://agrimachinerypb.com/
बैंक विवरण अपडेट हेतु लिंक- https://farmerregisteration.emandikaran-pb.in/

 

👉 यहाँ देखें फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट

👉 यहाँ देखें आज के ताजा मंडी भाव

👉 बासमती के बाजार में क्या है हलचल यहाँ देखें

About the Author
मैं लवकेश कौशिक, भारतीय नौसेना से रिटायर्ड एक नौसैनिक, Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मैं मूल रूप से हरियाणा के झज्जर जिले का निवासी हूँ। मंडी मार्केट( Mandibhavtoday.net) को मूल रूप से पाठकों  को ज्वलंत मुद्दों को ठीक से समझाने और मार्केट और इसके ट्रेंड की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।