Movie prime

मंडियों में नहीं बची है नया गेहूं को रखने की जगह | अभी तक 14 प्रतिशत ही खरीद का हुआ है उठान

मंडियों में नहीं बची है नया गेहूं को रखने की जगह | अभी तक 14 प्रतिशत ही खरीद का हुआ है उठान

किसान साथियो हरियाणा के फरीदाबाद जिले की मंडियों में गेहूं की खरीद पर रफ्तार बढ़ गई है। लेकिन खरीदे गए गेहूं के धीमे उठान के कारण जिले की लगभग सभी मंडियों में नई आवक को रखने के लिए जगह नहीं बची है। जिले की सबसे बड़ी अनाज मंडी, मोहना, में भी स्थिति खराब है। यहां पर अब तक केवल 14.4 फीसदी गेहूं का उठान हुआ है, जिससे अधिकारियों की परेशानी बढ़ गई है। किसानों को अपनी उपच बेचने के लिए ट्रैक्टर-ट्रॉली के साथ मंडी के बाहर सड़कों पर इंतजार करना पड़ रहा है। WhatsApp पर भाव देखने के लिए हमारा ग्रुप जॉइन करें

साथियो द ट्रिब्यून की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मोहना मंडी में खरीदे गए कुल 5.2 लाख क्विंटल गेहूं में से अब तक केवल 75,000 क्विंटल ही उठाया गया है। इसके कारण किसानों और कमीशन एजेंटों दोनों के लिए समस्याएं पैदा हो गई हैं। किसान सुनील बिस्ला ने बताया कि मोहना मंडी, जो जिले की एक प्रमुख मंडी है, जगह की कमी का सामना कर रही है। उन्होंने कहा कि मंडी में ताजा गेहूं की आवक के लिए कोई जगह नहीं बची है, क्योंकि खरीदी गई गेहूं की बोरियों से मंडी का पूरा परिसर पटा हुआ है। 2690 में गेहू बेचना है तो एक क्लिक में कंपनी को सीधा बेचे

क्या कहना हैं किसानो का
साथियो एक अन्य किसान राकेश कहते हैं कि हालांकि लगभग 90 प्रतिशत रबी फसलें बाजार में आ चुकी हैं, लेकिन खराब उठाव के कारण मंडी आने वाले किसानों का अनाज खुले में पड़ा हुआ है। ऐसे में संभावित बारिश से खुले में रखी गेहूं की बोरियों के लिए खतरा पैदा हो रहा है। उन्होंने कहा कि हरियाणा के मुख्य सचिव और जिला प्रशासन द्वारा संबंधित एजेंसियों को दिए गए निर्देशों के बावजूद स्थिति में सुधार नहीं हुआ है। उनका दावा है कि ज्यादातर गेहूं या बोरियां बारिश से बचाने के पर्याप्त इंतजाम के बिना खुले में पड़ी हैं।

अभी तक हुआ है 17000 क्विंटल गेहूं का उठान
साथियो सूत्रों के अनुसार, ऐसी ही स्थिति जिले के एक अन्य प्रमुख क्रय केंद्र बल्लभगढ़ गेहूं मंडी में भी है, जहां शनिवार तक की गई कुल 1.7 लाख क्विंटल खरीद के मुकाबले केवल 35,000 बैग या 17,000 क्विंटल गेहूं एकत्र किया गया था। बल्लभगढ़ मार्केट कमेटी के सचिव इंद्रपाल सिंह ने कहा कि खरीदे गए खाद्यान्न का केवल 20.58% ही उठाया गया या गोदामों में लाया गया। डीएफएससी (जिला खाद्य एवं आपूर्ति निगम) और हरियाणा राज्य भंडारण निगम (एचएसडब्ल्यूसी) जैसी एजेंसियों को उठान प्रक्रिया में तेजी लाने का काम सौंपा गया है। मोहना अनाज मंडी के सचिव ऋषि कुमार ने कहा कि उठान में तेजी लाने के प्रयास किए जा रहे हैं, जो काम करने के लिए श्रमिकों और वाहनों की कमी के कारण धीमा है।

👉 यहाँ देखें फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट

👉 यहाँ देखें आज के ताजा मंडी भाव

👉 बासमती के बाजार में क्या है हलचल यहाँ देखें

About the Author
मैं लवकेश कौशिक, भारतीय नौसेना से रिटायर्ड एक नौसैनिक, Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मैं मूल रूप से हरियाणा के झज्जर जिले का निवासी हूँ। मंडी मार्केट( Mandibhavtoday.net) को मूल रूप से पाठकों  को ज्वलंत मुद्दों को ठीक से समझाने और मार्केट और इसके ट्रेंड की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।