Movie prime

सरकारी प्रतिबंधों के बावजूद भी भारत बना विश्व का सबसे बड़ा चावल निर्यातक देश | जाने पूरी जानकारी इस रिपोर्ट में

सरकारी प्रतिबंधों के बावजूद भी भारत बना विश्व का सबसे बड़ा चावल निर्यातक देश | जाने पूरी जानकारी इस रिपोर्ट में

किसान साथियो थाईलैंड राइस एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन (ट्री) के अनुसार सफेद चावल के शिपमेंट पर प्रतिबंध लगाने और उबले चावल पर 20 प्रतिशत निर्यात शुल्क लगाने के बावजूद भारत 2023 में दुनिया का सबसे बड़ा चावल निर्यातक रहा। हालाँकि, वैश्विक बाजार में इसकी हिस्सेदारी में कमी आई है, क्योंकि भारत से निर्यात किया जाने वाला चावल 27 प्रतिशत कम हो गया है। ट्री के अध्यक्ष चुकियात ओपसवोंग नै इस सप्ताह के शुरुआत में बैंकॉक में कहा कि 2023 में भारत 16.5 मिलियन टन (एमटी) चावल का निर्यात करके टॉप के स्थान पर बना हुआ है, जबकि 2022 में भारत ने बासमती सहित कुल 22.3 मिलियन टन चावल का रिकॉर्ड निर्यात किया था। WhatsApp पर भाव देखने के लिए हमारा ग्रुप जॉइन करें

ओपासवोंग ने कहा कि भारत के प्रतिबंधों के कारण आने वाली कमी की पूर्ति थाईलैंड, वियतनाम और पाकिस्तान ने कर दी है। 8.8 मिलियन टन चावल का निर्यात करके थाईलैंड दूसरे सबसे बड़े निर्यातक के रूप में उभरा, जबकि रिकॉर्ड 8.3 मिलियन टन निर्यात के साथ वियतनाम तीसरे और पाकिस्तान चौथे सबसे बड़े निर्यातक के रूप में उभरा है।

हालांकि, उम्मीद यह है कि इस साल के अंत में अधिक निर्यात के साथ वैश्विक चावल बाजार में भारत की वापसी होगी। ट्री के अधिकारी ने बताया कि लगभग 7.5 मिलियन टन चावल का निर्यात करके वियतनाम और थाईलैंड दूसरे स्थान के लिए प्रतिस्पर्धा करेंगे, जबकि 5 मिलियन टन के शिपमेंट के साथ पाकिस्तान अपना स्थान बरकरार रख सकता है। ओपसवोंग कहा कि जब तक भारतीय चावल के निर्यात पर प्रतिबंध लागू रहेंगे थाईलैंड, वियतनाम और पाकिस्तान अपने चावल के लिए 600 डॉलर प्रति टन से अधिक की मांग करते रहेंगे, आम तौर पर पाकिस्तान और थाईलैंड के टूटे हुए सफेद चावल को छोड़कर चावल की कीमतें 600 डॉलर प्रति टन से ऊपर चल रही हैं।

दूसरी ओर पिछले साल जून में शुरू हुए अल नीनो के कारण अगर थाईलैंड में सूखा और शुष्क अवधि में बढ़ोतरी होती है, तो चावल का उत्पादन प्रभावित हो सकता है। इस साल जून तक तटस्थ होने की संभावना के साथ अल नीनो मौसम पैटर्न थाईलैंड के साथ-साथ भारत, पाकिस्तान और वियतनाम में भी धान की फसल को प्रभावित कर सकता है।

केंद्र द्वारा जुलाई से सफेद चावल के शिपमेंट पर प्रतिबंध लगाकर और उबले चावल पर 20 प्रतिशत निर्यात शुल्क लागू करके भारत ने चावल निर्यात पर अंकुश लगा दिया था। केंद्र ने बासमती चावल के शिपमेंट पर 950 डॉलर का न्यूनतम निर्यात मूल्य भी तय कर दिया था। भारत ने इन उपायों का सहारा इसलिए लिया, क्योंकि उसका खरीफ सीजन का धान दक्षिण-पश्चिम मानसून की कमी के कारण प्रभावित हुआ था। कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय का अनुमान है कि 2022 में 110.51 मिलियन टन के मुकाबले इस वर्ष खरीफ सीजन के चावल का उत्पादन 3.8 प्रतिशत की कमी के साथ 106.31 मिलियन टन हो सकता है। खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए भी प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया गया है।

आपूर्ति पर अंकुश के बावजूद विश्व बाजार में भारतीय चावल की एकमात्र उपलब्ध किस्म पारबोइल्ड राइस इस समय 20 प्रतिशत निर्यात शुल्क के साथ 543-547 डॉलर प्रति टन पर बिक रहा है, जबकि थाईलैंड का चावल 626 डॉलर और पाकिस्तान का चावल 637-641 डॉलर प्रति टन पर बिक रहा है। बल्क लॉजिक्स के निदेशक वी. आर. विद्या सागर ने कहा कि चावल का बाजार चढ़ रहा है और लाल सागर संकट के बावजूद पश्चिम एशिया, दक्षिण-पूर्व एशिया और अफ्रीका के लिए माल जाना जारी है। पारबोइल्ड राइस की मांग पिछले साल की तुलना में बेहतर है। उन्होंने कहा कि घरेलू बाजार में पारबोइल्ड राइस की कीमत रखरखाव के शुल्क सहित 33,000- 34,000 रुपये प्रति टन पर उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि पारबोइल्ड राइस की उपलब्धता में कोई समस्या नहीं है।

एग्रीकल्चरल कमोडिटीज एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन से प्राप्त जानकारी के अनुसार भारतीय निर्यातक इस समय कट-थ्रोट% प्रतिस्पर्धा में शामिल हैं और वे अब चावल भेजना नहीं चाह रहे हैं। उनका कहना है कि ब्राउन राइस की मांग आ रही है, लेकिन उन्होंने इसका कोई जवाब नहीं दिया है। विद्या सागर ने कहा कि वियतनाम मानव उपभोग के लिए ब्राउन राइस खरीद रहा है, जिसकी कीमत पारबोइल्ड राइस के स्तर के आसपास है। ब्राउन राइस पर भी 20 प्रतिशत निर्यात शुल्क लागू है। बाकि व्यापार अपने विवेक से करे

👉 यहाँ देखें फसलों की तेजी मंदी रिपोर्ट

👉 यहाँ देखें आज के ताजा मंडी भाव

👉 बासमती के बाजार में क्या है हलचल यहाँ देखें

About the Author
मैं लवकेश कौशिक, भारतीय नौसेना से रिटायर्ड एक नौसैनिक, Mandi Market प्लेटफार्म का संस्थापक हूँ। मैं मूल रूप से हरियाणा के झज्जर जिले का निवासी हूँ। मंडी मार्केट( Mandibhavtoday.net) को मूल रूप से पाठकों  को ज्वलंत मुद्दों को ठीक से समझाने और मार्केट और इसके ट्रेंड की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। पोर्टल पर दी गई जानकारी सार्वजनिक स्रोतों से प्राप्त की गई है।